Top
अंधविश्वास

नीतीश बाबू के बिहार में कोरोना वायरस बना कोरोना माई- लड्डू, लौंग और अगरबत्ती से कई जिलों में शुरू हुआ इलाज

Prema Negi
1 Jun 2020 9:08 AM GMT
नीतीश बाबू के बिहार में कोरोना वायरस बना कोरोना माई- लड्डू, लौंग और अगरबत्ती से कई जिलों में शुरू हुआ इलाज

महिला कर रही है दावा कि कोरोना माई ने कहा कि वे दो बार आंधी लाकर कोरोना को बहुत हद तक भगा चुकीं हैं और उनकी घर-घर पूजा हुई तो एक बार और आंधी लेकर कोरोना को पूरी तरह खत्म कर देंगी...

राजेश पाण्डेय की रिपोर्ट

जनज्वार, पटना। विज्ञान, इलाज और खोज की किताबों में सरकारें लाख दावेदरियाँ कर लें, लेकिन हकीकत ये है कि जनता को सरकारी नीतियों की असफलता और झूठे दावों के बीच आखिरी सहारा अंधविश्वास और भगवान भरोसे चलाने वाले झाड़-फूंक का ही रह जाता है और फिलहाल बिहार में 'कोरोना माई' के रूप में उसी का असर दिख रहा है। जब जनता फिर एक बार अंधविश्वास पर ही विश्वास करने को अभिशप्त हुई है।

यह भी पढ़ें : ओडिशा में तांत्रिक ने कोरोना भगाने के नाम पर मंदिर में दी नरबलि, कहा भगवान के आदेश का किया पालन

भारत में भी वैज्ञानिक रिसर्च में लगे हैं, वहीं दूसरी तरफ अंधविश्वास के कारण बिहार में कोरोना माई की पूजा शुरू कर दी गयी है। बिहार के बरौनी, बेगूसराय, दरभंगा, चंपारण, सारण सहित दर्जनों जिलों में महिलाएं कोरोना माई की पूजा कर रही हैं।

कोरोना माई की यह अफवाह कहां से शुरू हुई, यह तो किसी को नहीं पता, पर एक-दूसरे की देखा-देखी कोरोना माई की पूजा खूब की जा रही है। लक्ष्य खुद को और अपने परिवार को कोरोना माई के प्रकोप से बचा लेने का है।

जनज्वार का वो वीडियो जिसके बाद जागा बिहार प्रशासन

https://www.facebook.com/janjwar/videos/286236939091146/

यह भी पढ़ें — अंधविश्वास : बिहार के मुजफ्फरपुर में 3 महिलाओं को डायन बताकर पीटा, अर्धनग्न कर पूरे गांव में घुमाया

धर सोशल मीडिया पर एक महिला का वीडियो काफी वायरल हो रहा है। वायरल हो रहे वीडियो में महिला कह रही है कि यह बिहार के बरौनी से शुरू हुआ है। बरौनी में कुछ महिलाएं खेतों में थीं, तभी कुछ गाय उधर से गुजरीं और उन गायों में से एक गाय महिला के रूप में आ गई। यह देख खेतों में खड़ी महिलाएं काफी डर गईं, जिसके बाद गाय से महिला बनी औरत ने सबको पास बुलाया और कहा कि डरने की जरूरत नहीं। वे कोरोना माई हैं और यह बताने के लिए प्रकट हुईं हैं कि अगर उनकी पूजा की जाय तो कोरोना कुछ नहीं कर सकता और पूजा करने वाले का घर-परिवार कोरोना से सुरक्षित रहेगा।

अंधविश्वास : UP में मंदिर गई 16 साल की युवती ने जीभ काटकर शिवलिंग पर चढ़ाई, ताकि कोरोनामुक्त हो गांव

अब इस तरह दूर होगा कोरोना : कोरोना माई की पूजा करतीं बिहार की महिलायें

वीडियो में महिला यह भी कह रही है कि कोरोना माई ने कहा कि वे दो बार आंधी लाकर कोरोना को बहुत हद तक भगा चुकीं हैं और उनकी घर-घर पूजा हुई तो एक बार और आंधी लेकर कोरोना को पूरी तरह खत्म कर देंगी। महिला पूजा की विधि भी बता रही है। महिला का यह वीडियो खूब वायरल हो रहा है।

यह भी पढ़ें : रायपुर एम्स का डॉक्टर फैला रहा अंधविश्वास, गायत्री मंत्र और शिव तांडव से कोरोना दूर करने का किया दावा

देखते-देखते बिहार के कई जिलों में महिलाओं ने कोरोना माई की पूजा शुरू कर दी है। निर्जन खेत में अड़हुल के 9 फूल रखकर अगरबत्ती जलाकर 9 लड्डू और 9 लौंग के भोग लगाएं जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें : अंधविश्वास पर टिकी है रामदेव की इलाज पद्धति, अब सरसों के तेल से कोरोना वायरस मारने का दावा

स अंधविश्वास का आग की तरह प्रसार हो रहा है और शासन-प्रशासन का ध्यान अभी इस तरफ नहीं गया है। इस पर रोक लगाने की अबतक कोई पहल नहीं की गई है।

Next Story

विविध

Share it