Top
राष्ट्रीय

तबलीगी जमात के प्रमुख मौलाना साद का हुआ कोरोना टेस्ट, जानें क्या कहती है रिपोर्ट?

Manish Kumar
27 April 2020 1:43 AM GMT
तबलीगी जमात के प्रमुख मौलाना साद का हुआ कोरोना टेस्ट, जानें क्या कहती है रिपोर्ट?
x

जमात के निजामुद्दीन मरकज का मुखिया इन दिनों विवादों के घेरे में है क्योंकि कोरोना संकट के इस दौर में उसने अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया था...

नई दिल्ली: होम क्वारंटाइन में रह रहे तबलीगी जमात के प्रमुख मौलाना साद कांधलवी की कोरोना टेस्ट निगेटिव आई है। न्यूज एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक जांच एक प्राइवेट लैब में की गई। सूत्रों ने रविवार को यह जानकारी दी।

जमात के निजामुद्दीन मरकज का मुखिया इन दिनों विवादों के घेरे में है क्योंकि कोरोना संकट के इस दौर में उसने अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया था। उस पर कई धाराओं में मामला दर्ज किया गया है जिसकी जांच की जा रही है।

यह भी पढ़ें- तमिलनाडु में कोविड -19 के शव को अंतिम संस्कार से रोकने पर अब 3 साल की होगी जेल

साद के वकील फुजैल अहमद अयूबी ने कहा कि वे लोग पुलिस जांच में सहयोग कर रहे हैं और अभी पुलिस ने मौलाना साद को जांच में शामिल होने के लिए नहीं कहा है।

तबलीगी जमात के ठीक हुए मरीज दान करेंगे खून

तबलीगी जमात के मुखिया मौलाना मोहम्मद साद कंधावली ने कोरोना संक्रमण से स्वस्थ हो चुके मुस्लिम और जमाती कार्यकर्ताओं से अपना ब्लड प्लाजमा दान करने की अपील की थी, ताकि उन लोगों को फायदा हो सके जो इस बीमारी से संक्रमित हैं, और जिनका इलाज चल रहा है, जिसके बाद दिल्ली में तबलीगी जमात ने लोगों ने खून देने के लिए राजी हो गये हैं।

यह भी पढ़ें : झारखंड- लॉकडाउन के बीच ‘हिंदू फल दुकान’ के बैनर लगाकर बेचे जा रहे फल, पुलिस ने थमाया नोटिस

आम आदमी पार्टी विधायक अमानतुल्लाह खान ने एक वीडियो को ट्वीट करते हुए लिखा है, "तबलीगी जमात के लोग मौलाना साद साहब की दरख्वास्त पर दूसरे कोरोना के मरीजों के लिए अपना खून देते हुए, ताकि कोरोना के बाकी मरीज इनके खून से ठीक हो सके। यह समाज के वे लोग हैं जो कोरोना पॉजिटिव थे लेकिन अब कोरोना नेगटिव हो गए हैं और दिल्ली के क्वारंटाइन क्वॉरेंटाइन सेंटर में मौजूद है।"

अमानतुल्लाह खान ने जिस वीडियो को शेयर किया है उसमें एक डॉक्टर तबलीगी जमात के लोगों से यह कहते हुआ नजर आ रहा है, "आप अगर खून देंगे तो उसके प्लाज्मा में इसे आप दूसरे मरीजों को ठीक कर सकते हैं और उनकी जान बच जाएगी। उसके बाद वह डॉक्टर तबलीगी जमात के लोगों से पूछ भी रहा है, क्या आप अपना खून दान करेंगे जिसके बाद तबलीगी जमात के लोगों ने एक साथ हां करके कह रहे हैं कि हां हम सब तैयार हैं।"

यह भी पढ़ें: तमिलनाडु के किसान ने 1500 परिवारों के लिए मुफ्त वितरित कीं 8 लाख रुपये की सब्जियां

आपको बता दें कि 21 अप्रैल को मौलाना साद ने एक पत्र जारी किया था जिसमें कहा गया है कि वह और उनके अन्य सदस्य इस वक्त सेल्फ क्वारंटाइन में हैं और सभी की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। ये वही लोग हैं जो इस बीमारी से ठीक हो चुके हैं और उन्हें सरकार और समाज के लोगों की मदद करनी चाहिए और अपना ब्लड डोनेट करना चाहिए।

Next Story

विविध

Share it