Top
दुनिया

कनाडा में एक NRI को 'इस्लामोफोबिक' ट्वीट करना पड़ा भारी, गई नौकरी और स्कूल काउंसिल से भी हटाया गया

Manish Kumar Kumar
8 May 2020 3:24 AM GMT
कनाडा में एक NRI को

एंटी इस्लाम ट्वीट करने वाले इस भारतीय को उस स्कूल के काउंसिल से भी हटा दिया गया जिससे वह जुड़ा हुआ था...

जनज्वारः कनाडा में एक एनआरआई को अपने इस्लामोफिबिक ट्वीट की वजह से नौकरी गंवानी पड़ी है. इतना ही नहीं उन्हें उस स्कूल के बोर्ड से भी हटा दिया गया है जिससे वह जुड़े हुए थे.

दरअसल यह सारा मामला तब शुरू हुआ जब ब्राम्पटन (Brampton) के मेयर पैट्रिक ब्राउन ने 30 अप्रैल यह घोषणा की कि शहर के ध्वनि नियमों में कुछ ढील दी जा रही है जो कि पहले सिर्फ चर्च बैल को दी जाती थी.

यह भी पढ़ें : भूखे-प्यासे अपने घर लौट रहे मजदूरों पर भड़के योगी के मंत्री, कहा- मौत का सौदागर



?s=20

उन्होंने अपने ट्वीट में कहा, 'अब यह छूट सभी धर्मों को निर्धारित घंटों और निश्चित ध्वनि स्तर तक दी जाती है।मुस्लिम कम्युनिटी अपनी शाम की नमाज कर सकती है क्योंकी यह 2020 है और हम सभी धर्मों के साथ बराबरी का व्यवहार करते हैं.'

यह भी पढ़ें : झारखंडी मजदूरों का आरोप, बेंगलुरु में बिल्डरों के गुंडों के साथ मिलकर पीट रही पुलिस कि हम न लौट पायें घर

इस ट्वीट का जवाब देते हुए एनआरई रवि हुड्डा ने लिखा, 'आगे क्या ? ऊंट और बकरे वालों के लिए अलग से लेन, कुर्बानी के नाम पर घर पर जानवरों को काटने की अनुमति मिलेगी, सभी महिलाओं को सिर से पांव तक ढकने के लिए बायलॉ बनेंगे, सिर्फ कुछ वेबकूफों के वोट के लिए... '

EXCqm6KWAAknr6W

हुड्डा के इस ट्वीट की भारी विरोध हुआ जिसके बाद हुड्डा ने सफाई भी दी कि उनके शब्दों का गलत अर्थ निकाला गया. हुड्डा के ट्विटर हैंडल की सेंटिंग अब बदल दी गई है. अब केवल वही फोलोअर उनके ट्वीट देख पाएंगे जिन्हें इसकी अनुमति होगी.

संबंधित खबर : बिल्डरों के कहने पर येदियुरप्पा ने कैंसिल कराई ट्रेनें, कर्नाटक के प्रवासी मजदूर अब नहीं जा पाएंगे अपने घर

कुछ अन्य ट्विटर यूजर ने इस बात की तरफ भी ध्यान दिलाया कि हुड्डा बोल्टन शहर में स्थित मैकविले पब्लिक स्कूल की कार्यकारी स्कूल परिषद के सदस्य भी हैं.



?s=20

हुड्डा के ट्वीट के बारे में पता चलने पर पील डिस्ट्रिक्ट स्कूल बोर्ड ने एक अधिसूचना जारी करते हुए कहा कि उन्होंने हुड्डा को परिषद से निकाल दिया है और उन्हें इसके बाद किसी भी परिषद की गतिविधियों में भाग लेने की अनुमति नहीं दी जाएगी। बोर्ड ने कहा- इस्लामोफोबिया बिल्कुल स्वीकार नहीं किया जाएगा.

यह भी पढ़ें : गेहूं से लदे ट्रक में वाराणसी से झारखंड जा रहे थे 15 मजदूर, बैरियर से टकराकर 2 की मौत

हुड्डा एक रियल एस्टेट कंपनी रिमैक्स कनाडा में काम करते थे. हुड्डा के इस ट्वीट पता चलने पर रिमैक्स ने बयान जारी कर कहा कि हमें उनके विचारों का समर्थन नहीं करते हैं.



?s=20

रिमैक्स ने अपने ट्वीट में कहा - उन्हें टर्मिनेट कर दिया गया है और अब उनका रिमैक्स से कोई नाता नहीं है. रिमैस्कस ने कहा, बहुसंस्कृतिवाद और विविधता हमारे समुदायों में सबसे अच्छे गुणों में से एक हैं, और हम इन सभी मूल्यों को बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

Next Story

विविध

Share it