Top
दुनिया

एक तिहाई पाकिस्तानियों ने कहा कोरोना वायरस है अमेरिका-इजराइल की साजिश

Prema Negi
13 April 2020 2:30 AM GMT
एक तिहाई पाकिस्तानियों ने कहा कोरोना वायरस है अमेरिका-इजराइल की साजिश

सर्वे में 67 फीसदी पाकिस्तानियों ने कहा मस्जिद में सामूहिक नमाज पढ़ने से नहीं फैलेगा कोरोना...

जनज्वार। पाकिस्तान में एक तिहाई लोग यह मानते हैं कि कोरोना वायरस अमेरिका और इजराइल की साजिश है, जो उन्हें कमजोर करने के लिए रची गई है। यह नतीजा इप्सॉस द्वारा कराए गए एक सर्वेक्षण में उभरकर सामने आया है। यह सर्वे पाकिस्तान के चारों प्रांतों और उसके कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में किया गया।

यह भी पढ़ें : पाकिस्तान में कोरोना संक्रमित मरीजों को घर पर ही रखने के सरकारी निर्देश से मचा हड़कंप, तबाही की आशंका

समें लोगों से कोरोना वायरस से जुड़े सवाल किए गए। चार से नौ अप्रैल के बीच हुए सर्वे में यह जानने की कोशिश की गई कि पाकिस्तानियों में कोरोना को लेकर कौन सी गलतफहमी व्याप्त है और वे इसे लेकर किस हद तक जानकारियां रखते हैं।

र्वे में यह बात सामने आई कि हर पांच में से दो पाकिस्तानी यह समझता है कि कोरोना वायरस अमेरिका और इजराइल की साजिश है। 43 फीसदी लोगों ने इसे इन दोनों देशों की साजिश करार देते हुए कहा, "यह हमें कमजोर करने के लिए रची गई है।"

यह भी पढ़ें : ‘चीन पर आरोप लगाना आसान है, लेकिन भारत का अवैध वन्यजीव व्यापार भी खूब फल-फूल रहा है’

र्वे में सामने आया कि पाकिस्तानी कोरोना से बचाव के लिए जानकारी रखते हैं। 90 फीसदी पाकिस्तानियों ने साबुन से हाथ धोने और मास्क लगाने को जरूरी बताया, लेकिन केवल 48 फीसदी ने सोशल डिस्टेंसिंग को जरूरी माना।

र्वे में यह बात भी सामने आई कि पाकिस्तानियों को यह गलतफहमी है कि 5 वक्त वजू (सुबह से रात तक के बीच पढ़ी जाने वाली पांच वक्त की नमाज से पहले पानी से हाथ, मुंह, पैर धोना) करने से कोरोना से बचा सकता है।

संबंधित खबर : चीन का पहला शहर जहां पहली बार बंद हुआ कुत्ता बिल्ली खाना

चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि निजी स्वच्छता के लिए वजू अच्छी चीज है, लेकिन कोरोना वायरस केवल पानी से नहीं खत्म हो सकता। इसके लिए जरूरी है कि हाथ को दिनभर में एक से अधिक बार साबुन से धोया जाए।

सी तरह सर्वे में शामिल 67 फीसदी लोगों ने कहा कि मस्जिद में सामूहिक नमाज पढ़ने से कोरोना नहीं फैलेगा।

यह भी पढ़ें – CORONA: विश्व में मृतकों की संख्या 1 लाख के पार, अमेरिका में COVID-19 के 5 लाख से ज्यादा मामले

बकि, विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना से बचाव के लिए अभी तक जो कुछ बातें सही सिद्ध हुई हैं, उनमें एक-दूसरे से दूरी (सोशल डिस्टेंसिंग) बनाकर रखना शामिर है और इसे बहुत जरूरी बताया गया है।

Next Story

विविध

Share it