Top
शिक्षा

हिंदू रक्षा दल किसे बचाने के लिए ले रहा है JNU में मचे तांडव की जिम्मेदारी!

Prema Negi
7 Jan 2020 5:24 AM GMT
हिंदू रक्षा दल किसे बचाने के लिए ले रहा है JNU में मचे तांडव की जिम्मेदारी!
x

हिंदू रक्षा दल के अध्यक्ष पिंकी चौधरी ने वीडियो जारी कर कहा हमने करवाई JNU में हिंसा, आगे भी हुए देशविरोधी आंदोलन तो दोहरायेंगे यही सीन...

जनज्वार, दिल्ली। 4 और 5 जनवरी को जेएनयू में मचे तांडव की जिम्मेदारी एक वीडियो जारी कर हिंदू रक्षा दल नाम के एक संगठन ने ली है। संगठन के अध्यक्ष पिंकी चौधरी ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो जारी कर कहा है कि जेएनयू कम्युनिस्टों का अड्डा है और ऐसे अड्डे हम बर्दाश्त नहीं करते हैं। आगे भी ऐसी देश विरोधी गतिविधि की तो जेएनयू जैसी हिंसा दोहरायेंगे। किसी भी यूनिवर्सिटी को हम नहीं बख्शेंगे।

यह भी पढ़ें : जेएनयू हिंसा के विरोध में आज देशभर में व्यापक विरोध-प्रदर्शन, दर्जनों छात्रों को नकाबपोशों ने पीटा था बुरी तरह से

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में हिंदू रक्षा दल अध्यक्ष पिंकी चौधरी ने कहा है, 'जेएनयू में जो गतिविधियां हुईं हमें बर्दाश्त नहीं हैं। ये लोग हमारे देश में रहते हैं, हमारे देश का खाते हैं। हमारे देश में ही शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। हमारे देश में ऐसी गतिविधियां हिंदू रक्षा दल बर्दाश्त नहीं करेगा। जेएनयू में जो रविवार को हिंसा हुई है, उसमें सब हिंदू रक्षा दल के कार्यकर्ता थे।'

यह भी पढ़ें : महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे बोले JNU में हुई हिंसा ने दिला दी 26/11 की याद

से में सवाल है कि अगर यह हमला हिंदू रक्षा दल ने किया था तो जेएनयू छात्रसंघ से जुड़े छात्र बार-बार एबीवीपी से जुड़े लोगों का नाम इसमें क्यों ले रहे हैं। वो पहले से ही क्यों कह रहे हैं कि एबीवीपी से जुड़े लोगों ने साजिशन जेएनयू में तांडव मचाया। अगर जेएनयू के छात्र सच बोल रहे हैं तो आखिर हिंदू रक्षा दल अध्यक्ष पिंकी चौधरी किसे बचाने के लिए हमले की जिम्मेदारी ले रहे हैं।

यह भी पढ़ें : JNU हिंसा पर सीनियर वार्डन ने लिखा हॉस्टल की सुरक्षा में रहा असफल, इसलिए दे रहा हूं इस्तीफा

जारी वीडियो में पिंकी चौधरी ने कहा कि देश विरोधी गतिविधियां, अगर हमारे यहां कोई करेगा, तो उसे इसी तरह का जवाब दिया जाएगा जैसे हमने कल शाम को दिया और इसकी जिम्मेदारी हम लेते हैं। हमारे धर्म के खिलाफ, इतना गलत बोलना किस तरह का इन लोगों का व्यवहार है। कई वर्षों से जेएनयू कम्यूनिस्टों का अड्डा बना हुआ है और ऐसे अड्डे हम लोग बर्दाश्त नहीं कर सकते हैं। हम लोग अपने धर्म के लिए अपने प्राण न्यौछावर करने को तैयार रहते हैं।

हालांकि हिंदू रक्षा दल दावा कर रहा है कि उसने जेएनयू में तांडव मचाया, मगर पुलिस का कहना है कि उसके खिलाफ हमें साक्ष्य नहीं मिले हैं। गौरतलब है कि यह वही हिंदू रक्षा दल और उसके अध्यक्ष पिंकी चौधरी हैं, जो अपने कार्यकर्ताओं के साथ दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के कार्यालय पर पथराव के मामले में जेल की हवा खा चुके हैं।

संबंधित खबर : JNU में ABVP पर मारपीट का फिर लगा आरोप, छात्रा का तोड़ा पैर

गौरतलब है कि जेएनयू में जिस तरह छात्रों को निशाना बनाया गया, उसकी चौतरफा आलोचना हो रही है। देशभर के तमाम विश्वविद्यालयों और संगठनों ने इसकी निंदा करते हुए धरना-प्रदर्शन किये। इस हिंसा में जेएनयू के तकरीबन 40 छात्र गंभीर रूप से घायल हो गये थे, जिसमें छात्रसंघ अध्यक्ष आयशी घोष समेत तमाम जेएनयू छात्रसंघ के पदाधिकारी शामिल रहे। वे एम्स समेत तमाम अस्पतालों में उपचाररत रहे।

यह भी पढ़ें : JNU में छात्रों और शिक्षकों पर हुए हमले के बाद ट्विटर पर ट्रेंड बना ‘अखिल भारतीय गुंडा परिषद’

जेएनयू छात्रसंघ से जुड़े छात्रों ने आरोप लगाया कि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के लगभग 200 लोग जबरन कैंपस में घुस आये और उन्होंने छात्रों को लोहे की रॉडों, डंडों से बुरी तरह पीटा। यही नहीं कैंपस में जमकर तोड़फोड़ भी की, जिसके बाद साबरमती हॉस्टल के वार्डन ने इस्तीफा दे दिया था।

Next Story

विविध

Share it