Top stories

Aaj Ki Taza Khabar, 6 October 2021: पढ़िए आज की सभी ताजा खबरें और मुख्य समाचार

Janjwar Desk
5 Oct 2021 3:18 PM GMT
Aaj Ki Taza Khabar, 6 October 2021: पढ़िए आज की सभी ताजा खबरें और मुख्य समाचार
x

(आज की प्रमुख खबरें)

Aaj Ki Taza Khabar, 6 October 2021: पढ़िए आज की सभी ताजा खबरें और मुख्य समाचार

Aaj Ki Taza Khabar, 6 October 2021: उत्तर प्रदेश के झांसी के रक्सा थानाक्षेत्र के ग्राम डोमागोर में बाहर से आकर गांव में खेतों पर मजदूरी करने वाले आदिवासियों ने स्थानीय थाने की पुलिस पर पिटाई करने और उनकी झोपड़ियों को तहस-नहस कर देने के आरोप लगाए हैं। आज मंगलवार 5 अक्टूबर को गांव के पीड़ित आदिवासी परिवारों ने झांसी (Jhansi) के एसएसपी कार्यालय पहुंचकर अपनी शिकायत सुनाई और दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की मांग की। गांव के कई आदिवासियों (Adiwasi) ने अपने चोटों के निशान और शरीर पर व कपड़ों पर मौजूद खून के धब्बे दिखाए। इस मामले में शिकायतकर्ताओं को पुलिस अफसरों ने आश्वासन दिया है कि सीओ सदर मामले की जांच कर कार्रवाई करेंगे।

Read Full Story : Jhansi Tribal News Hindi : आदिवासी मजदूरों को पुलिसकर्मियों ने पीटा, झोपड़ियों को तोड़कर गांव से खदेड़ा

- देश में बेराजगारी (Unemployement) का आंकड़ा जारी करने वाली संस्था सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE) द्वारा जारी कंज्यूमर पिरामिड हाउसहोल्ड सर्वे (CPHS) के आंकड़े बताते हैं कि कोविड-19 का रोजगार पर बुरी तरह असर पड़ा है। पुरुषों- महिलाओं को अपनी नौकरी से हाथ धाना पड़ा है। लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान जहां शहरी क्षेत्र की महिलाओं के घरेलू कामकाज दो से तीन गुना बढ़ गए वहीं ग्रामीण इलाकों में एक बड़ी तादाद में पुरुषों के पलायन से गांव की महिलाओं का काम भी प्रभावित हुआ है। ये बातें मुख्य अर्थशास्त्री सोना मित्रा ने बतायी हैं।

सीएमआईई (CMIE) द्वारा जारी आंकड़ों का हवाला देते हुए सोना मित्रा (Sona Mitra) ने कहा कि मार्च 2020 से मार्च 2021 के दौरान 6.3 मिलियन (6.3 करोड़) नौकरियां खत्म हुईं, यानि करीब 1.5% प्रतिशत रोजगार में गिरावट हुई। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान बेरोजगारी के मामले में शहरी इलाकों में रहने वाले पुरुष सबसे ज्यादा प्रभावित हुए। वहीं मार्च 2020-21 के बीच लगभग सभी तिमाहियों में महिलाओं का प्रदर्शन भी खराब रहा।

Read Full Story : Unemployment News In Hindi : कोरोनाकाल में पुरुषों के मुकाबले महिलाओं ने गंवाईं ज्यादा नौकरियां

- उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) का मामला लगातार तूल पकड़ रहा है। अब खबर है कि किसानों ने पोस्टमॉर्टम की रिपोर्ट (Postmortem Report) को गलत बताते हुए मृतकों का अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया है। खबरों के मुताबिक पंजाबी फिल्मों की मशहूर अभिनेत्री सोनिया मान (Sonia Mann) मटेरा के मोहर्निया पहुंची। इस दौरान वह मृतक किसान के परिजन से मिली। सोनिया ने प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाए हैं। सोनिया ने कहा कि मृतक किसान की झूठी पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट बनाई गई। मृतक किसान गुरविंदर सिंह (Gurvinder Singh) को मोनू मिश्रा ने गोली मारी है लेकिन पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में गोली लगने की बात नहीं आई। सोनिया मान ने मांग की कि शव का पोस्टमॉर्टम दोबारा दिल्ली में करवाया जाए।

Read Full Story : Lakhimpur Kheri Update : किसानों ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट को बताया फर्जी, अंतिम संस्कार से किया इनकार

- चंडीगढ़ स्थित पंजाब यूनिवर्सिटी (PU) के मेन गेस्ट हॉउस के सामने 196 कॉलेजों के प्रोफेसर पिछले एक महीने से भूख हड़ताल पर हैं। प्रोफेसरों की मांग है कि पंजाब सरकार के द्वारा सातवें वेतनमान (7th Pay Commission) को पंजाब के प्रोफेसरों और शिक्षकों के लिए लागू किया जाए। प्रोफेसरों का कहना है कि केंद्र सरकार (Centre) द्वारा 2016 से लागू किए गए वेतनमान को पंजाब सरकार ने अब तक लागू नहीं किया है। यह बात मंगलवार को पंजाब फेडरेशन ऑफ यूनिवर्सिटी एंड कॉलेज टीचर्स ऑर्गनाइजेशन (PFUCTO) के सदस्य प्रोफेसर बलविंदर सिंह तिवाना ने कही।

प्रोफेसरों का आरोप है कि शिक्षक सातवें वेतनमान के लिए एक माह से भूख हड़ताल (Hunger Strike) शृंखला चला रहे हैं, लेकिन शिक्षा से जुड़े अधिकारी हाथ पर हाथ धरकर बैठे हुए है। अधिकारी नहीं चाहते हैं कि शिक्षकों का भला हो। प्रोफसर बलविंदर सिंह ने बताया कि उच्च शिक्षा आयोग के सचिव के साथ शिक्षकों की एक बैठक भी बेनतीजा रही। पंजाब कैबिनेट ने इसका हल निकालने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए थे, लेकिन इस तरफ ध्यान नहीं दिया गया। प्रोफेसरों की मांग है कि पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी खुद इस मामले को देंखे और जल्द से जल्द सातवें वेतनमान को लागू करें।

Read Full Story : Punjab News : धरना दे रहें पंजाब के प्रोफेसरों की मांग, CM चरणजीत सिंह चन्नी लागू करें सातवां वेतनमान

- उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई हिंसक घटना (Lakhimpur Kheri Violence) के बाद से जहां भाजपा (BJP) की सरकार को विपक्षी हमलों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं दूसरी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) लखीमपुर खीरी के पीड़ित परिवारों से मिलने की जगह राजधानी लखनऊ में 'आजादी का अमृत महोत्सव' (Azadi Ka Amrit Mahotsav) मनाने पहुंचे हैं। खबरों के मुताबिक प्रधानमंत्री ने 'अमृत महोत्सव के तहत केंद्रीय और शहरी कार्य मंत्रालय और प्रदेश नगर विकास विभाग द्वारा 'न्यू अर्बन' थीम पर आधारित तीन दिवसीय कॉन्क्लेव की शुरुआत की। इस दौरान उनके साथ राज्यपाल आनंदी बेन पटेल (Anandiben Patel), मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) और रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) भी मौजूद रहे। लखीमपुर खीरी की हिंसक घटना को लेकर जहां विपक्षी दल सरकार पर हमलावर हैं वहीं प्रधानमंत्री राजधानी लखनऊ में अपनी सरकार के किए कामों का गुणगान करने में व्यस्त हैं।

Read Full Story : Lakhimpur Kheri के पीड़ितों से मिलने की जगह लखनऊ पहुंचे पीएम मोदी, मना रहे 'आजादी का अमृत महोत्सव'

Next Story

विविध