राष्ट्रीय

Aaj Ki Taza Khabar, 10 October 2021: पढ़िए आज की सभी ताजा खबरें और मुख्य समाचार

Janjwar Desk
9 Oct 2021 7:09 PM GMT
Aaj Ki Taza Khabar, 10 October 2021: पढ़िए आज की सभी ताजा खबरें और मुख्य समाचार
x
Aaj Ki Taza Khabar, 10 October 2021: पढ़िए आज की सभी ताजा खबरें और मुख्य समाचार

Aaj Ki Taza Khabar, 10 October 2021: लखीमपुर हिंसा (Lakhimpur Kheri Violence) मामले में तमाम जद्दोजहद के बाद आखिरकार केंद्रीय गृहमंत्री अजय मिश्रा टेनी (Ajay Mishra Tany) के पुत्र आशीष टेनी को हिरासत में ले लिया गया है। इससे पहले इस चर्चित हो चुके मामले को सत्ता पार्टी ने दबाने- घुमाने का तमाम प्रयास किया लेकिन सभी प्रयास धरे के धरे रह गए। सामने आये इनपुट के मुताबिक लखीमपुर हिंसा में आरोपी बनाया गया मंत्रीपुत्र आशीष टेनी पुलिस के किसी भी सवाल का संतोषजनक जवाब नहीं दे सका। उसके दिखाए तथ्य ना पचने वाले साबित हो रहे थे। एक निजी टीवी चैनल की माने तो मंत्रीपुत्र आशीष ने घटना के वक्त अपनी मौजूदगी कहीं और दिखाई थी लेकिन उसे वह साबित नहीं कर सका।

Read Full Story : Lakhimpur Violence Breaking : लंबी पूछताछ के बाद हिरासत में लिया गया आशीष मिश्रा टेनी, क्राइम ब्रांच दफ्तर की बढ़ी सुरक्षा

झारखंड के गढ़वा जिला (Garhwa District) अंतर्गत रमना प्रखण्ड के मानदोहर गांव की 65 वर्षीया जगीया परहिया व 70 वर्षीय पति हलकन परहिया विलुप्तप्राय आदिम जनजाति से आते हैं दोनों वृद्ध काफी असहाय व नि:संतान हैं। संतानविहीन इस दम्पत्ति जगीया परहिया का बायां हाथ लकवाग्रस्त है वहीं हलकन परहिया की आंखों से दिखाई नहीं देता है। दोनों को न तो वृद्धा पेंशन मिलता है और न ही आदिम जनजाति पेंशन योजना ही मिल रहा है। सरकारी लाभ में मात्र उन्हें एक बिरसा आवास मिला है, वहीं मुख्यमंत्री डाकिया योजना के तहत प्रखण्ड रमना से 30 किलो राशन मिलता है। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री डाकिया योजना झारखंड (Mukhyamantri Dakia Yojana) के विलुप्तप्राय आदिम जनजाति समुदाय को घर बैठे अनाज (केवल चावल) पहुंचाने की प्रक्रिया है।

Read Full Story : Jharkhand News : लकवाग्रस्त नि:संतान जगीया परहिया व अंधा पति हलकन परहिया का केवल माड़-भात पर होता है गुजारा

लखीमपुर खीरी कांड को लेकर केंद्रीय गृहराज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी से सुबह 11 बजे शुरू हुई पूछताछ अब तक जारी है। पूछताछ के दौरान मंत्री का प्रतिनिधि भी मौजूद है। सवाल है कि, केंद्रीय गृह मंत्रालय में मंत्री पद पर होते हुए, मंत्री के बेटे से, मंत्री के प्रतिनिधि के सामने, मंत्री की पुलिस आखिर क्या पूछेगी? किसानों को गाड़ी से रौंदकर मारने वाले मंत्री के बेटे को पुलिस ने बतौर गवाह गुरूवार 7 अक्टूबर को नोटिस भेजा था। लेकिन तय समय आशीष टेनी पेश नहीं हुआ। जिसके बाद पुलिस ने कल शुक्रवार दूसरा नोटिस दिया। जिसपर आज शनिवार 9 अक्टूबर 11 बजे अपनी मर्जी से क्राइम ब्रांच आफिस पहुँचा है। मंत्री का बेटा अपने साथ एक दर्जन हलफनामे और कुछ पेन ड्राइव भी लेकर गया है।

Read Full Story : Lakhimpur Kheri Violence : समर्थकों की भीड़ से केंद्रीय मंत्री टेनी की यह बात क्या सरकार पर दबाव बनाने का प्रयास है? वीडियो वायरल

लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में आरोपी केंद्रीय मंत्री अजय कुमार मिश्र (Ajay Mishra) के बेटे आशीष कुमार टेनी आखिरकार पूछताछ के लिए क्राइम ब्रांच (Crime Branch) के सामने हाजिर हो ही गए। उधर मंत्री के बेटे के क्राइम ब्रांच पहुंचते ही पंजाब कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sindhu) ने शनिवार को अपना अनशन समाप्त कर दिया। सिद्धू नेआशीष की गिरफ्तार की मांग को लेकर 3 अक्टूबर की हिंसा में मारे गए दिवंगत पत्रकार रमन कश्यप के लखीमपुर आवास पर शुक्रवार को मौन धारण कर लिया था। लखीमपुर कांड (Lakhimpur Kheri Violence) के बाद लापता हुए आशीष आज मीडिया की नजरों से बचते-बचते क्राइम ब्रांच के दफ्तर पहुंचे। उन्होंने अपने मुंह को रूमाल से ढक रखा था। बता दें कि लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में आज क्राइम ब्रांच ने पेशी के लिए 11 बजे तक की डेडलाइन तय कर दी थी। माना जा रहा था कि अगर आशीष आज नहीं पहुंचते तो पुलिस अरेस्ट वारंट जारी करती।

Read Full Story : Lakhimpur Kheri Violence : मीडिया से नजरें बचाते क्राइम ब्रांच के सामने हाजिर हुआ 'मंत्रीपुत्र', सिद्धू ने भी तोड़ा अनशन

उत्तर भारत में दलितों को राजनीति के केंद्र में लाने वाले कांशीराम की आज पुण्यतिथि है। इस मौके पर बहुजन समाज पार्टी उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में विशाल रैली कर रही है। बसपा की स्थापना 1984 में कांशीराम ने ही की थी। उनके समर्थक उन्हें प्रेम से मान्यवर कहते थे। कांशीराम एक चिंतक तो थे ही साथ ही एक जमीनी कार्यकर्ता भी थे। उनके ही नेतृत्व बसपा ने बहुत कम समय में उत्तर प्रदेश की राजनीति में बसपा ने अपनी एक अलग छाप छोड़ी। कांशीराम मानते थे कि अपने हक के लिए खुद लड़ना होगा, उसके लिए गिड़गिड़ाने से बात नहीं बनेगी।

Read Full Story : Kanshiram Death Anniversary : कांशीराम के 10 क्रांतिकारी विचार जिसने शीर्ष पर ला दी भारत की दलित राजनीति

Next Story

विविध

Share it