Top
उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश के कन्नौज में पैदल घर लौट रहे मजदूर की सड़क पर हुई मौत, 3 दिन से था भूखा

Raghib Asim
17 May 2020 9:59 AM GMT
उत्तर प्रदेश के कन्नौज में पैदल घर लौट रहे मजदूर की सड़क पर हुई मौत, 3 दिन से था भूखा
x

चिलचिलाती धूप और प्रचंड गर्मी में भूखे पेट पैदल चल रहे एक मजदूर से सड़क पर ही तोड़ दिया दम, यह मजदूर मुंबई से ट्रक के जरिए आया था कन्नौज और हरदोई अपने घर जाने के लिए निकला था पैदल सफर पर, मगर सफर रह गया अधूरा....

जनज्वार। कोरोना वायरस के चलते देशभर में अब तक 3 हजार के लगभग मौतें हो चुकी हैं, और 1 लाख लोग इससे संक्रमित है। लगातार पांव पसार रहे कोरोना के कारण देशभर में पिछले 2 महीने से लॉकडाउन जारी है।

यह भी पढ़ें : जान हथेली पर लेकर घर लौट रहे मजदूर, सिर पर समान रख यमुना नदी कर रहे पार

स लॉकडाउन का सबसे बुरा असर प्रवासी गरीब मजदूरों और कामगारों पर पड़ा है। अलग-अलग राज्यों से भूखे-प्यासे पैदल या फिर ट्रक वगैरह के माध्यम से अपने घरों को लौट रहे इन मजदूरों को स्थिति बद से बदतर होती जा रही है। अब तक घर लौटते कई मजदूरों का सफर रास्ते में ही अधूरा रह गया है। तमाम हादसों या भूख-प्यास से अब तक लगभग 100 मजदूर अपनी जान गंवा बैठे हैं।

भी पढ़ें : मजदूर पिता ने अपाहिज बेटे को घर ले जाने के लिए साइकिल चुराई, चिट्ठी में लिखा कसूरवार हूँ भाई माफ करना

सा ही एक मामला उत्तर प्रदेश के कन्नौज का है, जहां चिलचिलाती धूप और प्रचंड गर्मी में भूखे पेट पैदल चल रहे एक मजदूर ने सड़क पर ही दम तोड़ दिया। मजदूर मुंबई से ट्रक के जरिए कन्नौज आया था और हरदोई जाने के लिए पैदल अपने घर के लिए निकला था, मगर रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। शुरुआती जानकारी के मुताबिक मजदूर 3 दिन से भूखा था।

यह भी पढ़ें- बैल बनकर बैलगाड़ी खींचने को मजबूर हुआ मजदूर क्योंकि रास्ते में भूख-प्यास से मर गया एक बैल

मीडिया में आ रही जानकारी के मुताबिक हरदोई जिले के सांडी थाना क्षेत्र के सेटियापुर निवासी विक्रम मुंबई में रहकर दिहाड़ी मजदूरी करता था। लॉकडाउन के चलते उसकी नौकरी चली गयी। जब मुंबई में भूखों मरने की नौबत आ गयी तो उसे कोई रास्ता नहीं सूझा और वह 14 मई को ट्रक में अपने कुछ साथियों के साथ हरदोई के लिए निकल पड़ा।

यह भी पढ़ें : उत्तर प्रदेश के औरेया में ट्रॉला और डीसीएम की टक्कर में घर लौट रहे 24 प्रवासी मजदूरों की मौत

ट्रक ने कन्नौज के मेहंदी घाट मोड़ पर इन सभी प्रवासी मजदूरों को आज 17 मई की तड़के 3:00 बजे उतार दिया। यह सभी लोग पैदल ही कन्नौज से हरदोई के लिए चल दिए। जान गंवाने वाले मजदूर के साथ के सभी लोग आगे निकल गए और यह वाणिज्य कर भवन के पास बैठ गया, जहां उसकी मौत हो गई।

भी पढ़ें- बीच सड़क पर मजदूर ने बच्चे को दिया जन्म, मासूम को गोद में उठा पैदल तय किया 270 KM का सफर

ह मामला सामने आते ही शासन-प्रशासन में हड़कंप मच गया है। आनन-फानन में सदर एसडीएम के साथ सीओ सिटी फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे।

यह भी पढ़ें : पंजाब से पैदल बिहार लौट रहे प्रवासी मजदूरों को रोडवेज बस ने कुचला, 6 की मौत

स मामले में एसडीएम सदर शैलेश कुमार का कहना है कि मजदूर 14 मई को मुंबई से अपने कुछ साथियों के साथ ट्रक से हरदोई के लिए निकला था। इन लोगों ने बिस्कुट और पानी के सहारे मुंबई से कन्नौज तक का सफर तय किया। किसी प्रकार कोई बीमारी की बात सामने नहीं आ रही है।

Next Story

विविध

Share it